क्या शशिकला–स्टालिन-सोनिया एक साथ हाथ मिला सकते हैं या नहीं?

क्या एक शशिकला स्टालिन सोनिया गठबंधन होगा?

क्या एक शशिकला स्टालिन सोनिया गठबंधन होगा?
क्या एक शशिकला स्टालिन सोनिया गठबंधन होगा?

ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIADMK) का भविष्य उसी दिन तय हो गया था जिस दिन तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री और पार्टी की महासचिव ज जयललिता सितम्बर 22, 2016 को गंभीर हालत में चेन्नई के अपोलो हस्पताल में भर्ती हुई थी !

जयललिता की मौत के बाद 6 दिसम्बर  2016 को  ओ पनीरसेल्वम, को मुख्यमंत्री के पद की शपथ दिलाई गयी थी ! यदि ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIADMK) में चली आ रही वर्चस्व की लड़ाई के चलते ओ पनीरसेल्वम को उनके पद से नहीं हटाया गया होता तो पार्टी की सरकार अपना कार्यकाल मई 2021 में पूरा करती !

ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIADMK) में  मतभेद पैदा हुए छेह महीने से ज्यादा समय बीत गया है लेकिन आज भी इस सवाल का जवाब दूंध पाना मुश्किल है की आखिर पार्टी के भीतर इतने  गुट क्यूँ बन गए और आज भी पार्टी के अन्दर फूट के आसार क्यूँ बने हुए हैं !

वहीँ दूसरी और जब से विधानसभा के अन्दर पनीरसेल्वम और DMK के नेता एम के स्टालिन ने एक दुसरे को मुस्करा कर देखा है प्रदेश की राजनीती में मची उथल पुथल का रहस्य और गहरा गया है ! सब यह जानना चाहते हैं  इस मुस्कराहट के पीछे की सच्चाई क्या है !  वी के शशिकला  के एक समर्थक यह जानना चाहते हैं, “आखिर पनीरसेल्वम स्टालिन और दुराई  मुरुगन पे क्यूँ मुस्कराय”! शशिकला पार्टी की विशेष बैठक में  दिसम्बर 29, 2016 को  महासचिव के पद के लिए चुनी गयी थी !

हैरानी की बात यह है की उस समय के मुख्यमंत्री पनीरसेल्वम और इ मधुसूदानन, जो की पार्टी की विशेष कार्यकारिणी की बैठक के चेयरमैन थे, बैठक के बाद पोएस गार्डन स्थित ज जयललिता के आवास पे पहुंचे थे, जहाँ शशिकला  और उनके परिवार के सदस्य पहले से काबिज़ थे, और कार्यकारिणी की बैठक में पास प्रस्ताव की असली कापी जिसमे शशिकला को पार्टी का  शीर्ष पद सौंपने का फैसला लिया गया था उन्हें सौंपा था  ! उस समय यह भी देखा गया था पनीरसेल्वम और इ मधुसूदानन किस तरह से शशिकला के आगे फ़रियाद करते रहे की वो खुद पार्टी की कमान संभाले और पार्टी को और मजबूत बनाये !

उस समय जब शशिकला ने प्रस्ताव की कापी जयललिता की तस्वीर के सामने रखी शशिकला की एक आंख में आंसू थे और दूसरी में मुस्कान ! ऐसा लग रहा था जैसे वो जयललिता का आशीर्वाद प्राप्त करना चाहती थी !

जब एक पत्रकार ने पूर्व मुखमंत्री की वसीहत के बारे में पुछा था उस समय सी  पोंनैयाँ, जो शशिकला के समर्थक थे और बाद में पनीरसेल्वम के खेमे  में जा मिले थे, ने सारी दुनिया के सामने कहा था की अम्मा ने शशिकला को  अपना कानूनी उतराधिकारी बनाया था ! इस बात का कोई सबूत माजूद नहीं है ?

हालाँकि,पोंनैयाँ के पास रूपए 2,00,000 के एक फिक्स्ड डिपाजिट के प्रमाणपत्र की कापी थी जो जयललिता ने शहर के एक बैंक से १९९० में बनवायी थी ! पोंनैयाँ के अनुसार उस प्रमाणपत्र की कापी में   शशिकला को जयललिता की कानूनी उतराधिकारी बताया गया था ! पोंनैयाँ के मुताबिक इस बयां का विडियो आज भी जाया टीवी के पास माजूद है !

अगर किसी को राजनीतिक तमाशा पे कोई कहानी लिखनी हो तो वो बड़ी आसानी से जयललिता के जाने के बाद ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIADMK) के अन्दर मची घमासान पे एक पटकथा लिख सकता है !

दिनाकरण को उपसचिव के पद से हटाने के बाद जो कुछ घटनाक्रम हुआ उस से आने वाले समय की रूप रेखा त्यार की जा सकती है !

विजयाधारिणी, कांग्रेस पार्टी की विधायक जो कि मणिशंकर अय्यर के बड़े करीब हैं, चेन्नई में दिनाकरण के अद्यार वाले घर उनसे मिलने गयी थी और लगभग एक घंटे तक उनके साथ रही !

इस समय तमिलनाडु में किसी भी कांग्रेस विधायक की AIADMK के नेता के साथ मुलाकात के बारे कोई सोच भी नहीं सकता ! लेकिन फिर भी इस मुलाकात के बारे में वहां की मीडिया ने कुछ ज्यादा ज़िक्र नहीं किया ! हो सकता है चेन्नई की मीडिया ऐसा ही चाहती थी  की यह मामला मीडिया में ज्यादा नहीं उछले ! अगर कांग्रेस तमिलनाडु के प्रदेश कांग्रेस समिति के मुखिया  थिरुनावाक्कारासर  दिनकरन से मिलने गए होते तो इस मुलाकात की मीडिया में खूब चर्चा होती ! थिरुनावाक्कारासर थेवर जाति के नेता हैं और  शशिकला और उनका परिवार भी इसी  जाति से सम्बन्ध रखते हैं ! वो खुद भी AIADMK के बड़े नेता थे और बाद में  BJP में चले गए और अब फिर कांग्रेस में लौट आये हैं ! थिरुनावाक्कारासर ही  वो नेता हैं जिन्होंने  शशिकला को समर्थन देने वाले 125 विधायकों को ट्रस्ट वोट से पहले फ़रवरी २०१७ में  कूवाथुर रिसोर्ट में ठहराया था !

जो लोग शशिकला को और उनके पति नटराजन  को जानते हैं  वो इस बात से भली भांति परिचित हैं की असली में मुथुवेल करूणानिधि,DMK के  मुखिया, ने दोनों की जोड़ी बनाने में मुख्या भूमिका निभायी थी !

वर्तमान में शशिकला  बंगलौर  की परप्पना अग्रहार जेल में बंद है ! उन पे अपनी आय से अधिक सम्पति रखने का मामला दर्ज था ! जनवरी और फ़रवरी 2017 में  उन्होंने  कूवाथुर रिसोर्ट  को जेल में तब्दील करवा दिया था ! यदि डी रूपा ,DIG कर्नाटक पुलिस के द्वारा किये गए खुलासे की बात करें तो शशिकला ने बंगलौर की जेल को पांच तारा रिसोर्ट में तब्दील किया हुआ था और वो अपनी मन मर्ज़ी से जेल में आती जाती रहती थी !

कर्नाटक में किसका राज है ?  कांग्रेस का | सोनिया गाँधी के भक्त  सिद्धरामय्या इस समय वहां के मुख्यमंत्री है ! डी रूपा जिसने सनसनीखेज खुलासे किये थे उस का क्या हर्ष हुआ ?

डी रूपा को आनन् फानन में  ट्रैफिक विभाग में स्थानांतरित कर दिया गया !

कांग्रेस पार्टी से लेकर बाकि सभी दल जिसमे DMK, कम्युनिस्ट पार्टी  और Janta Dal सब खामोश हैं ! क्या किसी साज़िश की बू नहीं आ रही ! सीधे तौर पे कहे तो DMK-शशिकला और कांग्रेस के इलावा मुस्लिम लीग के बीच गठजोड़ होने वाला है ! बस कुछ देर और इंतज़ार करें !

अब सवाल इस बात का उठता है की ADMK और DMK के बीच क्या अंतर है ? तमिल हस्याकलाकर  स वी शेखेर के अनुसार बस ‘A’ का अंतर है!

शेखेर खुद एक समय में AIADMK में शामिल थे और इस समय BJP में शामिल हैं !  इस सवाल का जवाब आने वाला समय ही बताएगा की क्या यह गठजोड़  संभव है या नहीं!

Team PGurus

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here