टीटीडी में काम कर रहे बहरूपिये ईसाई!

टीटीडी संस्थानों में काम करने वाले ईसाई के कई उदाहरण सामने आए हैं

Red Book on Sale!

तिरुपति से बाहर आ रहे कई नए वीडियो सबूतों के साथ, ऐसा लगता है कि तिरुमाला तिरुपति देवस्थानों (टीटीडी) से संबद्ध विभागों में काम करने वाले कई बहरूपिये ईसाई हैं। इन नए वीडियो में, हम सुश्री शौभाग्यम और सुश्री सुजाता नामक कर्मचारियों को एक चर्च में देख सकते हैं। सुश्री शौभाग्यम श्रीनिवासम कॉम्प्लेक्स (टीटीडी द्वारा प्रबंधित) में एक नर्स कर्मचारी के रूप में काम करती हैं और सुजाता विभाग प्रमुख, पद्मावती महिला कॉलेज (तिरुपति) के रूप में काम करती हैं। दूसरे वीडियो में, हम तिरुपति में चर्च के परिसर के अंदर खड़ी एक टीटीडी वाहन देख सकते हैं। कुछ महीनों पहले इसी तरह की घटना एससी / एसटी कोटा में टीटीडी में नौकरी अर्जित करने वाले ईसाईयों को उजागर करने के लिए सामने आई थी।

उप कार्यकारी अधिकारी, सुश्री हेमलता को टीटीडी आधिकारिक वाहन का उपयोग करते हुए चर्च प्रार्थना में शामिल होने के दौरान पकड़ा गया। हैरानी की बात है कि सभी ईसाई समूह और कम्युनिस्ट पार्टियाँ उनकी रक्षा करने के लिए कूद पड़े। सीपीआई (एम) ने अल्पसंख्यकों के लिए ‘जॉब सिक्योरिटी’ की मांग करते हुए भारी विरोध किया था, जो वर्तमान में टीटीडी में काम करते हैं और अब तक उनके खिलाफ कोई कार्रवाही नहीं हुई है। सीपीआई (एम) मंदिरों के जमीन और पैसे को गरीब किसानों को वितरित करना चाहती है, लेकिन वे चर्च की जमीन और वक्फ की भूमि के बारे में यह मांग नहीं करते हैं। हम सभी जानते हैं कि चर्च भारत में सबसे बड़ी जमीन मालिक हैं, लेकिन सीपीआई आसानी से उस तथ्य को भूल गया!

हेमलता की घटना के बाद, टीटीडी ने अपनी संस्था में काम करने वाले लगभग 40 गैर-हिंदू कर्मचारियों की पहचान की और उन्होंने उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया। नोटिस प्राप्त करने के बाद, इन 40 कर्मचारियों ने संयुक्त रूप से उच्च न्यायालय से अनुरोध किया कि उनको टीटीडी में काम करने की अनुमति दें। आखिरकार, हैदराबाद के उच्च न्यायालय ने एक नोटिस जारी किया, जो कि आगे की कार्यवाही तक उन्हें अपने संबंधित कर्तव्यों को जारी रखने की इजाजत देता है।

हिंदू चैतन्य समिति जैसे हिंदू समूहों की प्रतिक्रिया मिलने के बाद, टीटीडी ने अपने सभी कर्मचारियों को उनके धार्मिक झुकाव के बारे में एक लिखित बयान (घोषणा) देने की मांग की थी। इस तरह की घोषणा को प्रस्तुत करने के बावजूद, सुश्री सौभाग्यम, सुश्री सुजाता अब चर्च जाने के लिए पकड़ी गईं। टीडीडी में काम कर रहे बहरूपिये-ईसाई के इस नए वीडियो सबूत के साथ आंध्र प्रदेश सरकार की प्रतिक्रिया को देखना दिलचस्प होगा।

चूंकि तेलुगू देशम पार्टी 2014 में सत्ता में आई, विजयवाड़ा में कई प्रसिद्ध हिंदू मंदिरों को ध्वस्त कर दिया गया और गुंटूर जिले के तेनाली में 10 और हिंदू मंदिरों को ध्वस्त करने की तैयारी चल रही है। ऐसा लगता है श्री चंद्रबाबू नायडू को हिंदुओं की परवाह नहीं है और वह अल्पसंख्यक तुष्टीकरण में कांग्रेस के समान मार्ग का पालन करते हैं। टीडीडी एक हिंदू धर्म संगठन है, हिन्दू धर्म के स्थान पर कम्युनिस्टों या किसी अन्य धर्म से लोगों के लिए कोई जगह नहीं है। आंध्र देनदारी विभाग ईसाइयों से भरा हुआ है, जहां भ्रष्टाचार बड़े पैमाने पर होता है। नवंबर 2017 में भ्रष्टाचार विरोधी ब्यूरो ने श्री मेडपेल्ली विजयाराजू से कई सौ करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की, जो आंध्रप्रदेश सरकार के अक्षय निधि विभाग में संयुक्त सचिव थे। [1]

ऐसा लगता है कि तिरुमला तिरुपति देवस्थानम विभिन्न चरणों में व्यवस्थित रूप से शोषित किया जा रहा है। स्थानीय समाचार पत्रों ने बताया कि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री एन चंद्रबाबू नायडू वर्ष 2014 में किए गए अपने चुनावी वादों को पूरा करने के लिए मंदिर के धन का इस्तेमाल करना चाहते हैं।[2]

हिन्दू धन दान कर रहे हैं, धर्म के प्रचार और मंदिरों के रखरखाव के लिए लेकिन यह धन आम फंड में ले जाया जाता है, और बाद में धर्मनिरपेक्ष प्रयोजनों के लिए उपयोग किया जाता है। यह एक प्रसिद्ध तथ्य है कि आंध्र प्रदेश के कई हिंदू मंदिर पिछले 10 सालों में गायब हो गए हैं और मंदिरों के करोड़ों रुपये और मंदिरों की भूमि का दुरुपयोग किया गया। चंद्रबाबू नायडू का प्रशासन हिंदुओं को गुमराह कर रहा है, और अल्पसंख्यक तुष्टीकरण के कारण हिंदुओं की बलि दे रहे हैं।

संदर्भ:

[1] Official issued 104 fake NOCs for temple lands of Vijayawada – Nov 10, 2017, NewIndianExpress.com

[2] Is cash-strapped Andhra Pradesh eyeing Tirumala’s surplus funds? Jul 14, 2016, Firstpost.com

2 COMMENTS

  1. Because of fragile Hindu institutional setup these type of cheating will continue. Moreover converted ought not enjoy caste basis benefits as Semitic races have not casteism. Only bloody Indians pseudos allow it for vote bank politics!! I wonder when will it be removed? To my dismay it could not be done!

  2. There should be active All india Hindu Ekta and Action Committee to look towards Hindu interests Hindu religion should be managed on lines of Christian religion Just like Pope there should be one authority to take decisions

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here