पी चिदंबरम और चन्दा कोचर की घोटालेबाज जुगलबंदी

यह चिंताजनक है कि चिदंबरम इस पूरे मामले में संपूर्ण मौन बरकरार रखे हैं।

पी चिदंबरम और चन्दा कोचर की घोटालेबाज जुगलबंदी
पी चिदंबरम और चन्दा कोचर की घोटालेबाज जुगलबंदी

वित्त मंत्री चिदंबरम को वीडियोकॉन को लाभ पहुँचाने के लिए ओएनजीसी द्वारा इस उच्च मात्रा की खरीद के बारे में पता होना चाहिए।

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (पीसी) आईसीआईसीआई बैंक से संबंधित मामलों के संबंध में बिल्कुल शुतुरमुर्ग की भाँति व्यवहार कर रहे हैं। सामान्य रूप से बातूनी आदमी, जो किसी भी विषय पर सुवक्ता हो जाता है, जिसमें चेन्नई हवाईअड्डे [1] पर चाय के लिए कीमत चुकाने वाला किस्सा भी शामिल है, आईसीआईसीआई पर एक रहस्यमयी चुप्पी साथ रखी है। यह एक ज्ञात तथ्य है कि चंदा कोचर, शिखा शर्मा, और कल्पना मोरपरिया ने आईसीआईसीआई में ‘त्रिदेवी’ का गठन किया था और कोचर ने कथित तौर पर उनके गुरु वी के कामथ से हाथ मिला लिया था, जो पीसी के बहुत करीब थे[2]

पीगुरूज द्वारा चन्दा कोचर के पति दीपक कोचर की फर्म को 10% धनराशि लाभ का पर्दाफाश [3]करने के तीन दिन बाद आईसीआईसीआई द्वारा 28 मार्च को जारी बयान के मुताबिक 2012 में आईसीआईसीआई बैंक ने 20 अन्य बैंकों के संघ में 40,000 करोड़ रुपये (6 अरब डॉलर) कर्ज-ग्रस्त वीडियोकॉन समूह के मोजाम्बिक में तेल और गैस की अन्वेषण के लिए दिए।

मोजाम्बिक निवेश

यह इसी अवधि के दौरान विदेश में वीडियोकॉन समूह की फर्मों को विवादास्पद 3,250 करोड़ (491 मिलियन डॉलर) के ऋण वितरण से पृथक है। आईसीआईसीआई बैंक के मुताबिक, यह संदिग्ध ऋण भी बैंकों के संघ का हिस्सा था और आईसीआईसीआई बैंक के पास केवल 10 प्रतिशत हिस्सेदारी थी और शेष 90% को अन्य बैंकरों द्वारा वित्तपोषित किया गया था। हालांकि, आईसीआईसीआई बैंक ने बड़ी चतुराई से अन्य बैंकरों के नाम छुपा लिए।

सार्वजनिक क्षेत्र की उपक्रम कंपनी ओएनजीसी को वीडियोकॉन के मोज़ाम्बिक परियोजना में 10% हिस्सेदारी खरीदने के लिए कहा गया था। इसके लिए, ओएनजीसी ने वीडियोकॉन को करीब 200 मिलियन डॉलर का भुगतान किया।

2012 के मध्य से वित्त मंत्री कौन थे? श्री चिदंबरम! उन्हें मोजाम्बिक में तेल और गैस परियोजना के लिए 20-बैंकों के संघ द्वारा वीडियोकॉन समूह को 40,000 करोड़ रुपये के ऋण के पूरे मामले से अवगत होना चाहिए। इसके अलावा, सभी उच्च मात्रा के ऋणों में 5 प्रतिशत कमीशन लगाने वाली एजेंसी का नाम बाहर आ गया है। आईसीआईसीआई बैंक में, उच्च मात्रा सौदों को चंदा कोचर के देवर राजीव कोचर के स्वामित्व वाली एजेंसी के माध्यम से संसाधित किया गया था[4]

यह विश्वास करना मुश्किल है कि चिदंबरम को इन सभी सौदों के बारे में नहीं पता था क्योंकि चंदा कोचर हमेशा उनके साथ अच्छे सम्पर्क में थीं। इसलिए यह चिंताजनक है कि चिदंबरम इस पूरे मामले में संपूर्ण मौन बरकरार रखे हैं। हालांकि इस कमरे में 800-पौंड गोरिल्ला (आईसीआईसीआई घोटाला) समाचारों पर कब्जा कर रहा था, लेकिन चिदंबरम पेट्रोलियम की कीमतों के बारे में बात कर रहे थे, जिसकी एक चूहे से तुलना की जा सकती है। उसका बेटा कारागार में आईएनएक्स मीडिया संबंधित कांड में सज़ा काट रहा था तब पी चिदंबरम ना केवल उच्चतम और विचारण न्यायालय के बीच चक्कर काट रहे थे अपितु मीडिया में लेख लिख रहे थे, ये ही नहीं बल्कि ट्वीट करने का भी समय मिल जाता था।

2013 में यूपीए ने इस तेल सौदे में भी एक घोटाला किया था। सार्वजनिक क्षेत्र की उपक्रम कंपनी तेल और प्राकृतिक गैस आयोग (ओएनजीसी) को वीडियोकॉन के मोज़ाम्बिक परियोजना में 10 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने के लिए कहा गया था। इसके लिए, ओएनजीसी ने वीडियोकॉन को करीब 200 मिलियन डॉलर का भुगतान किया। यह और कुछ नहीं बल्कि भारत में घनिष्ठ पूंजीवाद का शानदार उदाहरण है। भारतीय बैंक वीडियोकॉन के लिए पैसे का भुगतान करेंगे और बाद में सार्वजनिक क्षेत्र की ओएनजीसी अत्यधिक दरों पर वीडियोकॉन की परियोजनाओं से शेयर खरीद लेंगे[5]

वित्त मंत्री चिदंबरम को वीडियोकॉन को लाभ पहुँचाने के लिए ओएनजीसी द्वारा इस उच्च मात्रा की खरीद के बारे में पता होना चाहिए। अब केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को चंदा कोचर, उनके पति और वीडियोकॉन मालिकों को फोन करने की उम्मीद है। क्या वे चिदंबरम को भी फोन करेंगे, जिन्होंने इन संदिग्ध सौदों को अनुमोदित किया?

ध्यान दें:
1. इस लेख में प्रयुक्त रूपांतरण दर 1 USD = 66.16 रूपये है

संदर्भ :

[1] Chidambaram gets trolled for complaining about tea price at Chennai airportMar 26, 2018, Business Today

[2] Bank on usApr 3, 2014, The Times of India (Mumbai edition)

[3] ICICI Bank head Chanda Kochhar and husband on the radar of probe agencies for doubtful loans to debt-ridden Videocon Group? Mar 25, 2018, PGurus.com

[4] Governor Patel claimed RBI has more power over private banks. Will it use them now? Apr 3, 2018, MoneyLife.in

[5] ONGC’s $2.4 billion Mozambique deal under oil ministry scannerFeb 2, 2017, LiveMint.com

Team PGurus

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here